Adsense

 हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है,

कभी सुबह कभी शाम याद आता है,
जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत,
फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है।
Har Tanha Raat Mein Ek Naam Yaad Aata Hai,
Kabhi Subhah To Kabhi Shaam Yaad Aata Hai,
Jab Sochte Hain Kar Lein Dobara Mohabbat,
Fir Pehli Mohabbat Ka Anzaam Yaad Aata Hai.

                                             इससे ज़्यादा तुझे और कितना करीब लाऊँ मैं,

कि तुझे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता।
Iss Se Zyada Tujhe Aur Kitna Qareeb Laaun Main,
Ki Tujhe Dil Mein Rakh Kar Bhi Mera Dil Nahi Bharta.


                                         हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो,

भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो।
Haqikat Na Sahi Tum Khwab Bankar Mila Karo,
Bhatke Musafir Ko Chaandani Raat Bankar Mila Karo.


Previous Post Next Post