Adsense

 तुम सुनो या न सुनो, हाथ बढ़ाओ न बढ़ाओ,

डूबते-डूबते एक बार पुकारेंगे तुम्हें।

-------------------------------------

मेरे होने में किसी तौर से शामिल हो जाओ,
तुम मसीहा नहीं होते हो तो क़ातिल हो जाओ।

-------------------------------------

ज़मीं छूटी तो भटक जाओगे ख़लाओं में,
तुम उड़ते उड़ते कहीं आसमाँ न छू लेना।

-------------------------------------

बड़ी घुटन है, चराग़ों का क्या ख़याल करूँ,
अब इस तरफ कोई मौजे-हवा निकल आये।

 

Previous Post Next Post