Adsense

 Kya Gila Karein Teri Majboorion Ka Hum,

Tu Bhi Insaan Hai Koyi Khuda To Nahin,

Mera Waqt Jo Hota Mere Minasib,

Majbooriyon Ko Bech Kar Tera Dil Khareed Leta.

क्या गिला करें तेरी मजबूरियों का हम,

तू भी इंसान है कोई खुदा तो नहीं,

मेरा वक़्त जो होता मेरे मुनासिब,

मजबूरिओं को बेच कर तेरा दिल खरीद लेता।


Kyun Karte Ho Wafa Ka Sauda,

Apni Majbooriyon Ke Naam Par?

Main Ab Bhi Woh Hi Hoon,

Jo Tere Liye Jamaane Se Lada Tha.

क्यूँ करते हो वफ़ा का सौदा,

अपनी मजबूरिओं के नाम पर?

मैं तो अब भी वो ही हूँ,

जो तेरे लिए जमाने से लड़ा था।


Advertisement


 

Majboorian Odh Ke Nikalata Hu

Ghar Se Aaj Kal,

Varna Shauk To Aaj Bhi Hai

Baariso Me Bheegne Ka.

मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं

घर से आजकल,

वरना शौक तो आज भी है

बारिशों में भीगनें का।


Kitne Majboor Hain Hum

Pyar Ke Hathon,

Na Tujhe Pane Ki Oukaat,

Na Tujhe Khone Ka Hausla.

कितने मजबूर हैं हम

प्यार के हाथों,

ना तुझे पाने की औकात,

ना तुझे खोने का हौसला।


Phir Yun Hua Ki Jab Bhi

Jarurat Padi Mujhe,

Har Shakhs Ittefaq Se

Majboor Ho Gaya.

फिर यूँ हुआ कि जब भी

जरुरत पड़ी मुझे,

हर शख्स इत्तफाक से

मजबूर हो गया।

أحدث أقدم